मुख्य पेज   |    संर्पक    |   मिडीया      |    English
ॐ नम: शिवाय      ॐ नम:शिवाय     ॐ नम: शिवाय      ॐ नम:शिवाय     ॐ नम: शिवाय
ॐ नम: शिवाय
 
 
 
 
 
 
श्री शिवयोगी रघुवंश पुरी जी
   
 

शिव के 108 नाम

स्वरमय

संगीतप्रिय शिव सातो स्वरों में निवास करने के कारण स्वरमय कहे जाते हैं। सा, रे, ग, म, प, ध, नि के रूप में शिव हीं हमारे सामने प्रकट होते हैं। सामप्रिय होने के कारण भी शिव को स्वरमय तो होना हीं था। स्वर का अर्थ होता है ध्वनि। नाद अथवा ॐकार के रूप में प्रकट होने के कारण शिव को स्वरमय कहा गया है। चिन्मय की तरह शिव भी स्वरमय है। स्वर को अलग करते हुए शिव उसमें प्रवेश नहीं करते बल्कि स्वयं हीं स्वर मात्र बन जाते हैं इसलिए स्वरमय कहे जाते हैं। सृष्टि के अन्दर जितनी बोलियाँ हैं, वे सभी स्वर का हीं विकार है।
कहीं कहीं श्वास प्रश्वास को भी स्वर नाम से कहा जाता है। प्राणवायु के द्वारा जीवन दान देने के कारण शिव को स्वरमय कहा जाता है। प्रत्येक उच्छवास में शिव हीं विराजमान हैं, ऐसी भावना सतत करते रहनी चाहिए। उपनिषद् भी प्राण को ब्रह्मरूप से स्वीकार करती है– नमस्ते वायो त्वमेव प्रत्यक्षं ब्रह्मासि। (तैO1,1) इसलिए साँसों के माध्यम से ‘सोSहम्–हंस:’ इस मंत्र का भी जप यति लोग करते हैं। सम्पूर्ण वर्ण समुदाय को भी कहीं–कहीं स्वर के रूप में स्वीकार किया जाता है। सामवेद के अनुसार इन वर्णों के रूप में विभक्त होने वाले शिव हीं है इसलिए शिव स्वरमय है। भास्करराय के अनुसार शिव के स्वरमय में ये कारण है–

षड्जोदात्तमुखा:स्वराअवयवावेदैकवपुष: साम्ब! व्यञ्जनकोभवान् स्वरमयी शक्तिस्तव मता।
ओङ्कारावयवेषु मप्रभृतयो रुद्रेश्वरशिवा: सर्वे यस्य विभूतितां विदधते सोSसि स्वरमय:।।

हे साम्ब! षड्जादि या उदात्तादि स्वर वेदरूप शरीर वाले आपके हीं अवयव हैं, आप व्यंजन रूप और आपकी शक्ति स्वरात्मिका है, ॐकार के अवयव में मकार आदि रूप से रुद्र, ईश्वर व शिव सभी जिन आपकी विभूति हैं वे आप स्वरमय है। स्वरों को शिव समझकर, उनको साधना हीं स्वरमय की उपासना है।


 
------------------------------------------------------
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
  कार्यक्रम
 
  शिव कथा
    मकर संक्राति
    शिव नाम प्रवचन
    महा शिव रात्रि
READ MORE
 


 

संर्पक

श्री वेदनाथ महादेव मंदिर
एफ / आर - 4 फेस – 1,
अशोक विहार, दिल्ली – 110052
दूरभाष : 09312473725, 09873702316,
011-47091354


 


  प्रवचन
 
    प्रवचन 1
    प्रवचन 2
    प्रवचन 3
  प्रवचन 4
 

 

 India Tour Package Data Entry Service
Designed and Maintained by Multi Design