कपर्दी

करुणासागर कपाली के जटाजूट से गंगा प्रवहित होती है। ‘कपर्द’ का अर्थ होता है ‘जटाजूट’ और इसे धारण करने के कारण शंकर को कपर्दी कहा जाता है। धरती पर आने से पहले गंगा शंकर की जटा में ही भ्रमण कर रही थी। गंगा को यह गर्व था कि मैं जहाँ पर गिरूँगी उस जगह को तोड़ती फोड़ती हुई पाताल में प्रवेश कर जाऊँगी, पर हुआ उल्टा। शंकर ने अपने जटा रूपी कटाह में ही गंगा को रोक लिया। जब भ्रमण करते करते रास्ता नहीं सूझा, तब गंगा रोने लगी। कामारी को करुणा आ गई और एक बाल केवल हटा दिया जिसे गंगा को रास्ता मिल गया और गंगा का गर्व भी खर्व हो गया। इस प्रसंग का मनोहर वर्णन रावण ने अपने शिवताण्डव में किया है

जटाकटाह संभ्रमन् भ्रमन्निलिम्पनिर्झरि
विलोलवीचिवल्लरी विराजमानमूर्धनि।
धगद् धगद् धगद् ज्वलललाटपट्टपावके
किशोरचन्शेखरे रति: प्रतिक्षणं मम।।

कपर्दी से शंकर का तपस्वी होना भी लक्षित होता है। तपस्वी अवश्यमेव जटा धारण करते हैं– जटाभि: तापस:। अधयात्म में आकाश हीं शंकर के केश हैं जिसमें मेघ विचरण करते रहते हैं और उन्हीं से सारा जल प्राप्त होते रहता है। नटराज मूर्ति में भी आकाश को हीं जटा बतलाया गया है। देवनदी के प्रवाह से शोधित होने के कारण, अमर सरिता को पुनीत करने के कारण और पृथ्वी पर बहने के लिए गंगा प्रवाह प्रदान करने के कारण, गुँथे बाल धारण करने के कारण अथवा मरालावतार में रस्सी की माला धारण करने के कारण शंकर को कपर्दी कहा जाता है। सब कष्टों को सहकर तप करना कपर्दी की उपासना है।

New Article Of the Month

देवों के देव महादेव हैं अद्वितीय...

भारत के गरिमायुक्त ग्रंथ शिवपुराण में शिव और शक्ति में समानता बताई गई है और कहा गया है कि दोनों को एक-दूसरे की जरूरत रहती है। न तो शिव के बिना शक्ति का अस्तित्व है और न शक्ति के बिना शिव का। शिव पुराण में यह भी दर्ज है कि जो शक्ति संपन्न हैं, उनके स्वरूप में कोई अंतर नहीं मानना चाहिए। भगवती पराशक्ति उमा ने इंद्र-आदि समस्त देवताओं से स्वयं कहा है कि ‘मैं ही परब्रह्म, परम-ज्योति, प्रणव-रूपिणी तथा युगल रूप धारिणी हूं।

read more

Shiv Yogi Video

view more